Tags

, ,

 भारतीय मूल का आइएस आतंकी सिद्धार्थ धर अपने कारनामों से अब कुख्यात आतंकी संगठन का सीनियर कमांडर बन गया है। ब्रिटेन में रहे इस युवक को अब आतंकी संगठन का ‘नया जिहादी जॉन’ कहा जाता है, जिसे बर्बरता से किसी का सिर कलम करने में जरा देर नहीं लगती।

यह जानकारी निहाद बरकत नाम की यजिदी किशोरी ने दी है जो आइएस में सेक्स गुलाम थी। वह इराक के शहर मोसुल में सिद्धार्थ के चंगुल में थी, वहां से वह मुक्त हुई है। सिद्धार्थ ब्रिटेन में रहने वाला हिंदू था जिसने बाद में इस्लाम ग्रहण कर लिया। अपना नाम अबू रुमायश रखकर वह कब आतंकी गतिविधियों में शामिल हो गया, यह उसके घर वाले भी नहीं जान पाए। बाद में उसने शादी की और सन 2014 में पत्नी-बच्चों के साथ आइएस में शामिल होने के लिए सीरिया चला गया।

आतंकी वारदातों के प्रति अपने समर्पण भाव के चलते उसे मुहम्मद एमवाजी की जगह मिल गई जिसे जिहादी जॉन के नाम से जाना जाता था। एमवाजी की जब अमेरिकी ड्रोन हमले में मौत हो गई तब आइएस में विदेशी नागरिकों के सिर कलम करने का जिम्मा सिद्धार्थ धर को सौंपा गया। उसकी ब्रिटेन में रहने वाली बहन कोनिका धर को अभी भी विश्वास नहीं है कि आइएस की ओर लड़ रहा उनका भाई सिद्धार्थ धर है। Read more http://www.jagran.com

Advertisements