Tags

,

उत्तराखंड में सियासी घमासान का आखिरकार फैसला हो ही गया। कांग्रेस ने दावा किया कि फ्लोर टेस्ट में हरीश रावत पास हो गए। सूत्रों के अनुसार रावत को 33 मत पड़े, जबकि मुख्य विपक्षी दल भाजपा को 28 मत मिले। फ्लोर टेस्ट में स्पीकर को मतदान करने की नौबत नहीं आई। हालांकि फ्लोर टेस्ट के परिणाम की आधिकारिक घोषणा अभी नहीं हुई है। ये नतीजे 11 मई को सुप्रीम कोर्ट ने घोषित करने हैं, लेकिन मंगलवार को मतदान के बाद सूत्रों ने भाजपा और कांग्रेस को मिले मतों का आंकड़ा मीडिया के सामने रखा। फ्लोर टेस्ट की कार्यवाही ग्यारह बजे से 12 बजे तक चली।

वहीं, हरीश रावत ने कहा कि फ्लोर टेस्ट के बाद अब वह उत्सुकता के साथ सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। राज्य के हित में मतदान हुआ है। उधर, भाजपा विधायक मदन कोशिक ने सदन में पार्टी की हार मानी।

निर्धारित कार्यक्रम के तहत स्पीकर ने घंटी बजाकर सत्र शुरू होने का ऐलान किया। कांग्रेस के नौ बागी विधायकों को छोड़कर बाकी 62 विधायकों को फ्लोर टेस्ट में भाग लेने की अनुमति दी गई है। इनमें एक मनोनीत विधायक भी शामिल है। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत दो घंटे के लिए उत्तराखंड से राष्ट्रपति शासन भी हटा दिया गया।

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राज्य में सियासी संकट के हल के लिए कराए जा रहे इस फ्लोर टेस्ट के लिए भाजपा और कांग्रेस के विधायकों का विधानसभा सदन पहुंच गए थे।

बीती पूरी रात भाजपा और कांग्रेस ने अपने विधायकों को साथ रखने के अलावा बाकी विधायकों का समर्थन जुटाने के लिए मैराथन कसरत की। इसी का नतीजा रहा कि कांग्रेस विधायक रेखा आर्य मंगलवार सुबह भाजपा खेमे के साथ खड़ी दिखी, जबकि भाजपा विधायक भीमलाल आर्य कांग्रेसियों के साथ खड़े नजर आए।

Read more http://www.jagran.com/

Advertisements