Tags

, , , ,

पीएम नरेंद्र मोदी इन दिनों पांच देशों की यात्रा पर हैं। अफगानिस्तान और कतर की यात्रा के बाद वो स्विटजरलैंज के दौरे पर हैं। इसके बाद वो अमेरिका और मैक्सिको का दौरा करेंगे। अंतरराष्ट्रीय जगत में इस दौरे को एक बड़े परिप्रेक्ष्य में देखा जा रहा है। विदेशी मीडिया में पीएम के इस दौरे की काफी चर्चा है। मशहूर विदेशी पत्रिका द इकोनॉमिस्ट ने कहा कि पीएम मोदी के दौरे से ये साबित होता है कि भारत की मौजूदा सरकार गतिशील है। सरकार घरेलू मोर्चों के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय पटल पर बेहतर काम कर रही है।आइए जानने की कोशिश करते हैं कि पीएम की पांच देशों की यात्रा पर द इकोनॉमिस्ट किस नजरिए से देख रहा है।

भारत के लिए अफगानिस्तान का मतलब

पीएम के अफगानिस्तान दौरे में सलमा बांध का उद्घाटन दोनों देशों के लिए बड़ी कामयाबी बतायी जा रही है। सलमा बांध पर पिछले एक दशक से काम चल रहा था। लेकिन अफगानिस्तान में आतंकी गतिविधियों की वजह से कई बार अड़चने आयीं। इस बांध के निर्माण के साथ ही अफगानिस्तान न केवल भारत के करीब आया है। बल्कि दुनिया में भारत ने अपनी काबिलियत का परचम भी लहराया है। इसके अलावा स्थिर अफगानिस्तान का होना भारत के लिए बेहद जरूरी है। विशेषज्ञों का मानना है कि अफगानिस्तान के घरेलू मामलों में पाकिस्तान का दखल जितना कम होगा। भारत उतनी ताकत के साथ आतंकी संगठनों से मुकाबला कर सकेगा। पिछले महीने ही अफगानिस्तान और इरान ने तेहरान में चाबहार बंदरगाह को विकसित करने पर सहमति जताई थी। जिससे भारत को खाड़ी के देशों में व्यापार के लिए काफी मदद मिलेगी।  Read more http://www.jagran.com

Advertisements