Tags

, , ,

2 जुलाई को संसद भवन के परिसर में अंतर्राष्ट्रीय रोजा इफ्तार पार्टी का में शिरकत के लिए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने करीब 140 देशों को निमंत्रित किया है। संघ ने यह कदम अपने मुस्लिम विरोधी छवि के खात्मे के लिए उठाया है।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सपोर्ट से बनाया गया मुस्लिम राष्ट्रीय मंच, द्वारा आयोजित इस पार्टी के मेहमानों में पाकिस्तान भी शामिल है। इस मंच के मार्गदर्शक संघ प्रचारक इंद्रेश कुमार हैं। इस साल का इफ्तार पार्टी,

कुमार के अनुसार, इस पहल को राजनीतिक चाल के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए, बल्कि दुनिया को यह दिखाने का समय है कि भारत ऐसा देश है जहां सभी धर्मों को एक समान महत्ता दिया जाता है।

कुमार ने इंडिया टुडे को बताया, ‘मुस्लिम राष्ट्रीय मंच मुस्लिमों का और मुस्लिमों के लिए चलाया जाने वाला संस्थान है। संस्थान द्वारा बड़े अंतर्राष्ट्रीय इफ्तार पार्टी का आयोजन किया जा रहा है। पूरे देश से मुस्लिमविदों को इस इवेंट में हिस्सेदारी लेना होगा, इसमें मुस्लिम देशों के साथ-साथ गैर मुस्लिम देश भी हिस्सा लेंगे। इस आयोजन का लक्ष्य बस दुनिया को यह बताना है कि भारत ऐसी छतरी है जिसके नीचे सभी राष्ट्र व धर्मों के लोग समान अधिकार व सम्मान के साथ रहते हैं। भारत दुनिया में शांति का प्रतीक है।‘

‘अंतिम पैगंबर ने खुद कहा था कि आंतरिक व बाह्य मुश्किलों के समय शांति की आध्यात्मिक लहरें पूरब यानि भारत से आएंगी। उन्होंने यह करीब 1,400 वर्ष पहले कहा था। मुस्लिम देश के लिए भारत उम्मीद व शांति की एक किरण है।‘

इस बीच मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के प्रमुख मोहम्मद अफजल ने मेल टुडे से बात करते हुए बताया, ‘इस बार हमने 140 देशों के राजदूतों को निमंत्रित किया है जिसमें पाकिस्तान भी शामिल है।‘

इसके अलावा भारत के उप-राष्ट्रपति, वाइस चांसलर, आइपीएस ऑफिसर और आइएएस भी शिरकत करेंगे। अफजल ने यह भी कहा कि आरएसएस प्रतिनिधियों के अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट भी इस इवेंट में हिस्सा लेगी।  Read more http://www.jagran.com/

Advertisements